Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Search Meta Description के लिये क्या करे in Hindi for SEO beginners
Search Meta Description के लिये क्या करे in Hindi for SEO beginners – Innoza
July 21, 2018
Best Data Recovery Software in 2018 - Innoza IT Center
Best Data Recovery Software in 2018
July 22, 2018

Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza

Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners

Let’s explore: “Search Engine Optimization(SEO) क्या है in Hindi for beginners”

Why need SEO:  Online Business  दुनिया का सबसे बड़ा scope बन गया है। और हर चीज़ आज के समय में इन्टरनेट पर उपलब्ध है। यदि आप अपना online business  चाहते है तो आपके पास वेबसाइट का होना बहुत ही जरुरी है । और आपका वेबसाइट ही बहुत कुछ नहीं होता , google पर आपकी वेबसाइट की रैंक भी बहुत ही अच्छी होनी चाहिए। और जब तक आपकी रैंक अच्छी नहीं होती है, तो आपकी वेबसाइट पर traffic नहीं होता है। और जब आपके पास traffic  नहीं है तो आपका business भी बहुत कम मुनाफा देगा ।और google पर high  position पर रैंक के लिए हमे SEO की जरुरत पड़ती है । Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza

 

वैसे SEO भी  दो तरह से होता है:

 

  • ON Page SEO
  • OFF Page SEO

 

 ON Page SEO 

  1. यदि आपकी वेबसाइट की स्पीड 1-5 सेकंड है तो आपकी वेबसाइट फ़ास्ट है।

यदि आपकी वेबसाइट की speed  5-10 सेकंड है तो आपकी वेबसाइट average है और आपको इसे improve करने की जरुरत होती है।

वेबसाइट की speed slow  क्यों होती है :  जब हम अपनी वेबसाइट में बहुत सारी और बड़ी pixel वाली इमेज और बडे जावास्क्रिप्ट कोड को डालते है, तो वेबसाइट की speed स्लो हो जाती है। इमेज और जावा स्क्रिप्ट कोड को खुलने में टाइम लगता है तो आप ये कोशीश करे की image की साइज़ कम और जावास्क्रिप्ट कोड का यूज़ कम से कम हो। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza

 

 

  1. Keyword Density : बहुत ही ज्यादा रोल keyword density का होता है इसका मतलब होता है की आपका keyword कितनी बार आपके blog/ content में repeat हुआ है। keyword की dencity लगभग 5% होनी चाहिए । और यदि ज्यादा होती है तो ये आपकी website के लिए नुकसानदायक होती है।
  2. Internal link : आप अपनी पोस्ट में कुछ इस पोस्ट से releated link जरुर लगाये। ज्यादा link ना लगाये इससे रीडर को confusion होता है। 2 से 3 लिंक बहुत होते है एक सिंगल पोस्ट में।
  3. Post length :  आप अपनी पोस्ट में जितनी ज्यादा इनफार्मेशन देते है उतनी ही जल्दी आपकी रैंकिंग में भी सुधार होता है। पोस्ट में उस content से related सारी इनफार्मेशन होना बहुत ही जरुरी है, ताकि आपके visitors उसे दुसरो लोगो के लिए share करते रहे। कम से कम आपकी पोस्ट में 800 words हो। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza
  4. Title Tag : title tag का बहुत ही खास रोल होता है  आपका title जितना ज्यादा  optimize होगा।  उतना ही आपके लिए benifit होगा। 60 characters से ज्यादा का नहीं होना चाहीये। और आप पूरा प्रयास करे की title में आपका main keyword जरुर आये।
  1. Meta Description : गूगल को describe करने के लिए हम meta description को use करते है ताकि हमारी वेबसाइट किस subject पर है। जैसे education पर है या फिर news आदि।
  1. description : 150  characters से ज्यादा का meta डिस्क्रिप्शन नहीं होना चाहिए। google इससे ज्यादा का रीड नही करता है । Synonyms words का ज्यादा से ज्यादा उसे करे और main keyword डिस्क्रिप्शन में आ जाये ।
  2. Image ALT tag : आप पोस्ट में जो भी इमेज डालते हो google उस इमेज को  read नहीं कर पता है की ये किसकी इमेज है? Google इमेज के ऊपर लिखे tag से ये पता कर लेता है की ये किसकी इमेज है? मान लीजये की आपने पोस्ट में  सलमान खान की इमेज डाली तो google ये नहीं पता लगा सकता की ये किसकी इमेज है, पर आपने उसी इमेज पर alt tag में सलमान खान define कर  लिया तो google जान जाता है की ये सलमान खान की इमेज है। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza
  3. Url structure :  URL का link आपकी रैंक को increase  करने में बहुत हेल्प करता है। आपकी पोस्ट का URL इस तरह से होना चाहिए की google को पढ़कर ये पता चल जाये की ये पोस्ट किस subject से  रिलेटेड है।
  4. BOLD important keyword :  आप जिस keyword से अपनी पोस्ट से रैंक करना चाहते है, उस keyword  बोल्ड tag में  रखे। बोल्ड करने से google समझ जाता है की  पोस्ट का focus किस keyword है।
  5. Enable gzip compression : gzip कम्प्रेशन use करने से आपकी साईट थोड़ी लाइट weight हो जाती है। gzip  में आपकी  वेबसाइट के html, css, javascript code को कॉम्प्रेस किया जाता है  जिससे साईट का loading टाइम कम हो जाता है। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza
  6. Website structure :  दोस्तों अपनी वेबसाइट के लुक को यूजर फ्रेंडली बनाइये। अपनी वेबसाइट में छोटे font साइज़ का use मत करिए आपके font साइज़ कम से कम 15 px तो होना ही चाहिए। आपकी साईट देखने में attractive लगनी चाहीये। जिससे रीडर को पढने में अच्छा लगे।

 

 

 

Related: 20 Amazing Search Engine Optimization (SEO) Blogs to Follow in 2018Search Meta Description के लिये क्या करे in Hindi for SEO beginners

 

 

 OFF Page SEO 

जब हम off  page seo की बात करते है  तो सबसे पहले टारगेट backlinks का होता है । वेबसाइट को बहुत ज्यादा support करती है backlinks । और आपके पास जितनी भी अच्छी क्वालिटी की backlinks होगी उतनी ही  ज्यादा website की reputation होगी। तो इसलिए ये समझना बहुत ही जरुरी होता है की seo off पेज का इस्तेमाल करे । SEO off पेज कैसे होता है। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza.

  1. Search Engine Submission : आप सबसे पहले अपनी वेबसाइट को google, yahoo, msn, alexa, lycos,  जैसी free साईट पर submit करो।
  2. Keyword in post : आप अपने keyword से पोस्ट लिखना start करे। आपके content के शरुआत से ही keyword लिखने से आपकी रैंक बहुत तेजी से आगे बढती है। अपने keyword को heading और title मे भी use करे।
  3. Bookmarking website :bookimarking वेबसाइट की कैचिंग frequency किसी अन्य वेबसाइट से अधिक होती है। आप वेबसाइट को reddit.com  जैसी अच्छी वेबसाइट पर submit कर सकते है। यु तो इन्टरनेट पर हजारो वेबसाइट की लिस्ट है, पर एक बात का ध्यान हमेशा रखे की एक दिन में 40 से ज्यादा bookmarking ना करे।  Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza
  4. Facebook page : facebook आज के समय में दुनिया की सबसे बड़ी social networking website है। और जहां पर करोडो लोग एक दुसरे से जुडे हुए है और facebook सबसे बड़ा प्लेटफार्म है आपकी वेबसाइट के प्रमोशन करने के लिए। facebook पेज बनाकर भी आप अपनी वेबसाइट का प्रमोशन कर सकते है।
  5. Directory Submission :  dmoz जैसी अच्छी वेबसाइट पर अपनी वेबसाइट का link submit कीजिये। ये वेबसाइट strong backlinks provide करवाती है।
  6. Use google+ to Boost Organic Traffic : google का अपना ही google+ नाम से social networking platform है, तो ये बात साफ़ है की google इस पर बहुत ज्यादा focus करता है।
  7. Twitter :  ये भी आज के समय में लोगो की पसंद का platform है। twitter पर अपने followers बढ़ाये और रेगुलर tweet करते रहे।
  8. Slide Share : कुछ slide submission की अच्छी  website search कीजिये, जैसे slideshare.com, speakerdeck  ये मेरी favorite website है। इनका फायदा ये है की ये तेजी से google में रैंक करती है, जिससे वेबसाइट को रेफेरल traffic मिलता है। और ये backlink भी बन जाता है।  Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza
  9. Blog Commenting : ज्यादा traffic वाले ब्लॉग पर कमेंट भी करे। और याद रहे कमेंट में अपनी ही वेबसाइट का url भी डाले। इससे आपको रेफेरल traffic अच्छा खासा मिलता है।
  10. Instagram : इस पर आप अपनी links share करे। ये अभी युवओ की पहली पसंद ।है यहाँ से traffic continue मेन्टेन रहता है। Read: Search Engine Optimization क्या है in Hindi for beginners – Innoza

    “A debt of gratitude is in order For To Read This Blog..!”

     

     

     

     

Chhaya Ninama
Follow me

Chhaya Ninama

CEO at Innoza at Innoza IT Center
I am SEO Expert in Innoza and am also Web developer at here..
Chhaya Ninama
Follow me

Related Post

Chhaya Ninama
Chhaya Ninama
I am SEO Expert in Innoza and am also Web developer at here..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *