Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
राजस्थान के स्वत्रंता सेनानी by Innoza IT Center Udaipur
राजस्थान के स्वत्रंता सेनानी | Rajasthan GK
July 2, 2017
राजस्थान के लोक वाधयंत्र by Innoza IT Center Udaipur
राजस्थान के लोक वाधयंत्र | Rajasthan GK
July 4, 2017

राजस्थान के लोक गीत एवं नृत्य | Rajasthan GK

राजस्थान के लोक गीत एवं नृत्य by Innoza IT Center Udaipur
  1. राजस्थान के समुदाय द्वारा गाये जाने वाले गीत ही लोक गीत कहलाते है वे कुछ प्रमुख है।
  2. मूमल  : जैसलमेर में गया जाने वाला प्रमुख लोक गीत है।
  3. ढूलामारु : यह सिरोही का लोक गीत है।
  4. गोरबंध  : यह शेखावाटी क्षेत्र के लोक गीत है  ‘म्हारो गौर बंध नाखरालो’  प्रमुख  है।
  5. काजलियो : यह श्रंगारिक गीत है जो होली के अवसर पर गाया जाता है।
  6. तेजा गीत : यह किसानो का प्रमुख गीत है जो तेजाजी भक्ति के लिए गाया जाता है।
  7. घुमर    : राजस्थान का प्रसिद्ध लोक गीत है, जो घुमर के साथ गाया जाता है।
  8. पनिहारी   : राजस्थान का प्रसिद्ध लोक गीत है।
  9. पावणा    : नये  दामाद के ससुराल में आने पर पामणा गीत गाये जाते है।
  10. कामण : राजस्थान के कई क्षेत्रो में वर को जादू टोने से बचाने के लिए यह गीत गाया जाता है।
  11. रातीजगा  : रात को किसी मांगलिक कार्यक्रम में गाये जाने वाले गीत
  12. हिचकी    : हिचकी अलवर-मेवात का प्रसिद्ध गीत है।
  13. पपैयों    : पपीहा पक्षी पर गाया जाता है जो प्रेयसी अपने प्रीतम से मिलाने की याद में गाती है।
  1. झोरावा  : जैसलमेर जिले में स्त्री पति के परदेश जाने पर उसके वियोग में यह गीत गाती है।
  2. सुंवटियों : भीलनी स्त्री द्वारा परदेश गए पति को इस गीत से सन्देश भेजती है।
  3. दुपट्टा   : शादी के दिन दुल्हे की सालियों द्वारा गाया जाता है।
  4. हमसीड़ो  : उत्तरी मेवाड़ के भीलो का प्रसिद्द लोक गीत है।
  5. गणगौर  : गणगौर पर स्त्रीयों द्वारा गाया जाने वाला प्रमुख लोक गीत है।
  6. पीपली : रेगीस्तानी क्षेत्रो में वर्षा ऋतू में गाया जाने वाला गीत है।
  7. रसिया : ब्रज, भरतपुर, धौलपुर इलाको में गाया जाता है।
  8. बना-बनी : विवाह के अवसर पर गाये जाने वाले गीत है।
  9. कागा   : कौए को संबोधित करती है स्त्री अपने प्रीतम के आने का शगुन मानती है।
  10. लांगुरिया : करौली क्षेत्र की कुल देवी कैला देवी की अराधना में गाया जाता है।
  11. हिंडो /हिण्डोलिया : श्रावण मॉस पर महिलाए गाती है।
  12. बिछुडो  : हाडोती  क्षेत्र का लोकप्रिय गीत है।
  13. घुडला  : मारवाड़ का लोक गीत है।
  14. पंछीड़ा  : हाडोती क्षेत्र का लोक गीत है।
  15. केसरिया बालम : राजस्थान का प्रसिद्द लोक गीत्तो में यह राजवाडी गीत है।
  16. मोरिया : यह एक लोक गीत है जो लड़किया गाती है।

 राजस्थान के लोक नृत्य : 

 

राजस्थान समुदाय के लोग सामुहिक रूप से किये जाने वाले नृत्य को लोकनृत्य कहलाते है।

गैर नृत्य – होली के अवसर पर किया जाता है

गवरी नृत्य – उदयपुर संभाग में भीलो द्वारा किया जाता है

गरासियो के नृत्य – गरासिया जाती सिरोही जिले में व उदयपुर के गोगुन्दा,  झाडोल फलासिया, कोटडा के क्षेत्रो में किया जाने वाला लोकनृत्य है

  • वालर नृत्य – यह गरासिया जनजाति का प्रमुख है
  • लुर नृत्य – लुर गोत्र की गरासिया महिलायों द्वारा किया जाता है
  • कूद नृत्य –  गरासिया स्त्री व पुरुष दोनों द्वारा किया जाता है
  • मांदल नृत्य – गरासिया महिलाओ द्वारा किया जाता है
  • गौर नृत्य – गणगौर के अवसर पर गरासिया माहिला पुरुष दोंनो ही नृत्य करते है
  • जवारा नृत्य – होली दहन से पूर्व उसके चारो ओर घेरा बनाकर खेलते है

“A debt of gratitude is in order For To Read This Blog..!”

 

Related:  राजस्थान के प्रमुख रीती –रिवाज प्रथाएलघु एवं कुटीर उद्योग की परिभाषाराजस्थान के प्रमुख महल मंदिर पर्यटन स्थलराजस्थान के संग्रहालयराजस्थान के लोक गीत एवं नृत्यराजस्थान के स्वत्रंता सेनानीStudy Tips For All Competition ExamsDownload all materials PDF notes in Hindi

 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *