Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
राजस्थान के प्रमुख साहित्य कला व संगीत संस्थान by Innoza IT Center, Udaipur
राजस्थान के प्रमुख साहित्य कला व संगीत संस्थान – Rajasthan GK
July 1, 2017
राजस्थान के लोक गीत एवं नृत्य by Innoza IT Center Udaipur
राजस्थान के लोक गीत एवं नृत्य – Rajasthan GK
July 4, 2017

राजस्थान के स्वत्रंता सेनानी – Rajasthan GK

राजस्थान के स्वत्रंता सेनानी by Innoza IT Center Udaipur
  1. प. नरोत्तम लाल जोशी – यह झुंझनु के जयपुर राज्य प्रजामंडल आंदोलनों के प्रवर्तकों में से एक है, इन्होने शेखावाटी आंदोलनों का नेतृत्व किया।
  2. अमरचंद बाठिया – यह यह बीकानेर निवासी थे इन्होने झांसी की रानी बाई व तात्या टोपे को धनराशी सहायता दे थी अंगेजो ने 1857 में इनको फांसी पर चड़ा दिया।
  3. ठाकुर कुशाल सिंह- यह जोधपुर रियासात के आन्दोलन क्रांतिकारी  थे।
  4. रिसालदार मेहराब खान पठान – करौली के निवासी कोटा की सेना में अपने भूमिका निभाई थी।
  5. कुंवर मदनसिह – करौली में आन्दोलन की शुरुआत इन्होने करवाई थी।
  6. लाला हरदयाल भटनागर – इन्होने कोटा में नेतृत्व कर संगठन बनाकर अंग्रेजो के खिलाप जंग की बगावत की थी।
  7. रोशन बेग – इन्होने कोटा अंग्रेजी सेना के खिलाप क्रांतिकारियों को तैयार किया था।
  8. गोविन्द गिरी – यह डूंगरपुर भील के प्रथम क्रांतिकारी थे मानसिह पहाडी पर चल रही जन सभा में अंग्रेजो ने गोलिया चला दी जिसमे शहीद हो गए।
  9. मोतीलाल तेजावत – उदयपुर के कौल्यारी गाँव के आदिवासी भीलो को संगठित करने काम इन्होने किया भीलो को शोषण मुक्त करने में अपना पूरा जीवन लगा दिया।
  10. राव गोपाल सिह खरवा – यह अजमेर जिले के खारवा गाँव के रहने वाले थे जिनका आन्दोलन में  असहानिय सहयोग रहा।
  11. विजय सिह पथिक – बिजौलिया किसान के प्रमुख प्रसिद्ध क्रांतिकारी थे जिन्होंने पुरे आन्दोलन में जान फुक दी थी ईन्होने कई आन्दोलन में अहम्  भूमिका निभाई साथ ही इन्होने ‘राजस्थान केसरी’ नामक राजनीतिक समाचार पत्र भी प्रकाशित किया , अजमेर से ‘नविन राजस्थान’ पत्र जिसका नाम थोड़े समय बाद ‘तरुण राजस्थान’ रखा गया इस तरह पथिक जी प्रमुख भूमिका रही है।
  12. अर्जुन लाल सेठी –  राजस्थान के अग्रदूत कहे जाने वाले अर्जुनलाल सेठी ने क्रातिकारियो को राजनीतिक सिख देने की अहम भुमका निभाई है इन्होने बहुत से क्रांतिकारीओ को आन्दोलन के लिए तैयार किया और आन्दोलन में सहयोग किया।
  1. केसरी बारहठ  –  यह मेवाड़ राज्य की शाहपूरा रियासत के देवपुरा गाँव के रहने वाले थे जो प्रसिद्ध  क्रांतिकारी  कवी  थे जिन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन राष्ट्र को समर्पित कर दिया।
  2. जोरावर सिह बारहठ – यह केसरी बारहठ के भाई थे इन्होने कई आंदोलनों में भाग लिया व अंग्रेजो के खिलाप रेलिया निकाली व आन्दोलन का नेतृत्व किया।
  3. सेठ दामोदर दास राठी – यह पोकरण जैसलमेर के निवासी है यह क्रान्तिकारियो को आर्थिक सहयोग करते थे।
  4. सेठ जमनालाल बजाज –  यह सीकर के रहने वाले थे समाज सेवी के रूप मे जाने जाते है  जिन्होंने अपना अधिकांश धन क्रांतिकारियों को दान कर सहयोग करते थे व इन्होने असहयोग आन्दोलन में भाग लिया जिसमे अहम् भूमिका निभाई।
  5. जयनारायण व्यास – राजस्थान के प्रमुख सेनानी , समाज सुधारक , लोकजन नायक कहे जाने वाले इन्होने कई आन्दोलन में अहम् भूमिका निभाई व आजादी के बाद राजस्थान के दो बार मुख्यमंन्त्री बने व प्रधानमंत्री बने जिनका जीवन संघर्ष व्यर्थ नहीं गया।
  6. माणिक्य लाल वर्मा – यह लोकनेता के नाम से जाने जाते है इनका जन्म बिजौलिया  में 4 दिसम्बर 1887 में हुआ इन्होने मेवाड़ प्रजामंडल की स्थापना की यह  सयुक्त राजशतान के प्रधानमंत्री बने।
  7. प्रताप सिह बारहठ – यह केसरी सिंह बारहठ के पुत्र है यह श्रेष्ठ साहित्यकार व आजादी के दीवाने थे इन्होने अपने चाचा जोरावर सिह के साथ मिलकर लार्ड हार्दिग्ज के दिल्ली आने पर बम फेका बाद में इनको गिरफ्तार भी करे लिया व बरेली जेल में कठीन यातनाये दी गयी व भारत माता के लिए अपने प्राणों की बलिदानी दे दी।
  8. घनश्याम लाल जोशी –  यह  बेंगु के सेनानी है जिन्होंने बेंगु किसान आन्दोलन में अपना योगदान दिया .।
  9. हरिभाऊ उपाध्याय –  यह मालवा के श्रेष्ठ साहित्यकार व आदर्श पत्रकार व सेनानी थे जो अजमेर के मुख्यमंत्री रहे जिनकी भुमिका सर्वोपरिय रही है।
  10. टीकाराम पालीवाल – यह दौसा जिले के निवासी थे यह समाज  सुधारक के साथ – साथ जन सहयोग की भावना वाले जाने जाते है जो राजस्थान के प्रथम निर्वाचित मुख्यमंत्री थे।
  11. भोगीलाल पंडया- यह डूंगरपुर मूल के वागड़ के गांधी कहे जाने वाले यह आदिवासी समाज के सुधारक व ‘वनवासी सेवा संघ’ के स्थापक थे जिन्होने आदिवासियों के कल्याण के लिए अपना पुरा जीवन लगा दिया।
  12. मोहनलाल सुखाडिया – राजस्थान के ‘शताब्दीपुरुष’ कहे जाने वाले सुखाडिया लम्बे समय तक मुख्यमंत्री रहे यह उदयपूर के रहने वाले है जो प्रसिद्ध जन नायक के नाम से जानते है।

“A debt of gratitude is in order For To Read This Blog..!”

 

Related:  

 राजस्थान के प्रमुख रीती –रिवाज प्रथाएलघु एवं कुटीर उद्योग की परिभाषाराजस्थान के प्रमुख महल मंदिर पर्यटन स्थलराजस्थान के संग्रहालयराजस्थान के लोक गीत एवं नृत्यराजस्थान के स्वत्रंता सेनानीStudy Tips For All Competition ExamsDownload all materials PDF notes in Hindi

 

Chhaya Ninama
Follow me

Chhaya Ninama

CEO at Innoza at Innoza IT Center
I am SEO Expert in Innoza and am also Web developer at here..
Chhaya Ninama
Follow me

Related Post

Chhaya Ninama
Chhaya Ninama
I am SEO Expert in Innoza and am also Web developer at here..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *